Hey Dukh Bhanjan Lyrics

 

Hey Dukh Bhanjan Lyrics:

 

हे दुख भंजन मारुती नंदन
सुनलो मेरी पुकार
पवनसुत विनती बारम्बार
पवनसुत विनती बारम्बार

हे दुख भंजन मारुती नंदन
सुनलो मेरी पुकार
पवनसुत विनती बारम्बार
पवनसुत विनती बारम्बार

अष्ट सिद्धि नव निधि के दाता
अष्ट सिद्धि नव निधि के दाता
दुखियों के तुम भाग्यविधाता
दुखियों के तुम भाग्यविधाता

सियाराम के काज संवारे
सियाराम के काज संवारे
मेरा कर उद्धार
पवनसुत विनती बारम्बार
पवनसुत विनती बारम्बार

हे दुख भंजन मारुती नंदन
सुनलो मेरी पुकार
पवानसुत विनती बारम्बार
पवानसुत विनती बारम्बार

अपरंपार है शक्ति तुम्हारी
अपरंपार है शक्ति तुम्हारी
तुम पर रीझे अवधबिहारी
तुम पर रीझे अवधबिहारी

भक्ति भाव से ध्याऊँ तोहे
भक्ति भाव से ध्याऊँ तोहे
कर दुखों से पार
पवनसुत विनती बारम्बार
पवनसुत विनती बारम्बार

हे दुख भंजन मारुती नंदन
सुनलो मेरी पुकार
पवनसुत विनती बारम्बार
पवनसुत विनती बारम्बार

जपूँ निरंतर नाम तिहारा
जपूँ निरंतर नाम तिहारा
अब नहीं छोडूं तेरा द्वारा
अब नहीं छोडूं तेरा द्वारा

राम भक्त मोहे शरण में लीजै
राम भक्त मोहे शरण में लीजै
भव सागर से तार
पवनसुत विनती बारम्बार
पवनसुत विनती बारम्बार

हे दुख भंजन मारुती नंदन
सुनलो मेरी पुकार
पवनसुत विनती बारम्बार
पवनसुत विनती बारम्बार

हे दुख भंजन मारुती नंदन
सुनलो मेरी पुकार
पवनसुत विनती बारम्बार
पवनसुत विनती बारम्बार